मेरा अतिथिग्रह

Image3

अतिथिग्रह

कई मिलने वाले मेरे अतिथिग्रह में आते हैं ।  आते समय कभी वे लोग जोश या गुस्से में होते हैं, कभी ख़ुश और कभी परेशान; वे लोग कभी हंसते हुए आते हैं और कभी चिल्लाते हुए, कभी गाते हुए और कभी रोते हुए । वे लोग जिस भी भाव में आयें, मैं उनका स्वागत मुस्कराते हुए ही करता हूं ।  मैं उनका स्वागत शिश्टाचार, प्रसन्नता और समानता के भाव से करता हूं । मैं उनसे निवेदन करता हूं कि जब तक चाहें वे रह सकते हैं, और जब भी उनकी इच्छा हो, वे जा भी सकते हैं ।

कई बार मेरे मुलाकाती थोड़ी सी देर तक बैठते हैं, मैं उनकी बातों को ध्यान से सुनता हूं; वे लोग जो भी वार्तालाप करना चाहें, मैं आराम से सुनता हूं, और तब तक सुनता रहता हूं जब तक उनकी बात समाप्त नहीं हो जाती । मेरा अतिथिग्रह छोड़ने के बाद ये राही कहां जाते हैं, यह मुझे नहीं मालूम । न हीं मुझे पता होता है कि वे राही कहां से आए थे । मैं तो यही जानता हूं कि मेरे अतिथिग्रह में पधारने पर उन्हें प्रेम और स्वीक्रिति मिलती है ।

जब मुलाकाती नहीं होते

जब मेरा अतिथिग्रह खाली होता है तब मैं अपने जीवन के हर्ष का आनंद लेता हूं । जब मुलाकाती नहीं होते, मैं उस रिक्त घड़ी की शांती और इस पवित्र स्थान में रहने का पूरा मजा लेता हूं । मैं आनंदमय रहता हूं और धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करता हूं कि किसी भेंट करने वाले की जीवन यात्रा मेरे मनरूपी अतिथिग्रह की ओर लाएगी ।

इस कहानी का विडियो भी बनाया गया है ।

Top of the page and site index